Saturday, February 23, 2019

less seen rishikesh

ऋषिकेश में महर्षि महेश योगी का आश्रम हुआ करता था । फिलहाल वह ध्वस्त अवस्था में है ।
महर्षि आश्रम में देशी-विदेशी साधकों के लिए कई कुटिया बनी हुईं थीं । जो अब जर्जर हालत में हैं
साधकों की कुटियाओं की संख्या के आधार पर अब इस जगह को 84 कुटिया कहा जाने लगा है ।
84 कुटिया में एक बड़ा हॉल भी है । कभी यहां प्रवचन-सत्संग होते थे ।
आज-कल तो सत्संग हॉल में ग्रैफिटी कलाकारों के हाथों बनी कलाकृतियां ही दिखाई देती हैं।
द बीटल्स1960 का एक अंग्रेजी रॉक बैन्ड था। इसने योगी आश्रम में कुछ दिन रहकर कई मशहूर धुनें बनाई थीं।
बीट्ल्स के भी कारण मशहूर हुए इस आश्रम को कुछ लोग बीट्ल्स कुटिया भी कहते हैं ।
चौरासी कुटिया का संरक्षण उत्तराखंड का वन विभाग करता है ।
ग्रैफिटी कलाकारों ने 84 कुटिया के अधिकांश भागों में अपनी कला के नमूने उकेर रखे हैं ।